राजधानी दिल्ली में महिलाओं/लड़कियों के प्रति बढ़ते अपराधों को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस आयुक्त को पत्र लिखिए।​

crimes against woman

राजधानी दिल्ली में महिलाओं/लड़कियों के प्रति बढ़ते अपराधों को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस आयुक्त को पत्र लिखिए।​ Write a letter about increasing crimes against woman in cities and villages.

महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध पर पत्र mahilaon ke prati badhte apradh शहर में महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों को रोकने के लिए पुलिस अधीक्षक आयोग को पत्र. Write a letter about increasing crimes against woman in cities and villages in Hindi

महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध पर पत्र | Letter on increasing crime against women

सेवा में,

दिल्ली पुलिस आयुक्त,
नई दिल्ली.

विषय – महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों को रोकने के लिए प्रार्थना पत्र 

महोदय,

मैं आपका ध्यान राजधानी दिल्ली में लड़कियों और महिलाओं के प्रति बढ़ते अमानवीय अपराधों की ओर कराना चाहती हूँ। भारत का दिल कही जाने वाली राजधानी दिल्ली में आज प्रत्येक नारी अपने आपको असुरक्षित महसूस कर रही है उनके खिलाफ अपराध दिन-प्रतिदिन बढ़ते ही जा  रहे हैं। लड़कियों के साथ छेड़छाड़, बलात्कार, अपहरण और तेजाब से हमले आदि के मामले बहुत बढ़ गए हैं। रोज़ाना अख़बारों में ऐसी अमानवीय खबरें छपती ही हैं।

ज़्यादातर माता-पिता अपनी लड़कियों को रात के समय घर से बाहर नहीं निकलने देते क्योंकि उन्हें हर वक्त डर लगा रहता है कि कहीं उनकी बेटी के साथ कोई अनहोनी न हो जाए ! कानून की सख्त कार्यवाही के अभाव में ये असामाजिक तत्व और अपराधी प्रसाशन से बेखौफ होकर घूमते रहते हैं और अपराधों को अंजाम देते हैं।

अत: मेरा आपसे अनुरोध है कि राजधानी दिल्ली में महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा बढ़ाई जाए और उनके खिलाफ होने वाले अपराधों पर अंकुश लगाया जाए।इसके पत्र के साथ सुझाव भी नत्थी किए गए हैं कृपया उन्हें देखें और कार्यवाही करें।

उचिक कार्यवाही की आशा में,

भवदीय
उषा गौतम
पता : __

write a letter to the editor of a newspaper about the way in which women issues are presented in Hindi Letter

इस पोस्ट में हमने आपको How to write a Hindi letter to the editor about the rising number of crimes in your locality letter to the editor about domestic violence हिंदी में लिखने के नमूने (सैंपल) दिए हैं।

संपादक

दैनिक फोकस,

नई दिल्ली

विषय: शहरों और गांवों में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध

श्रीमान जी,

मैं महिलाओं के खिलाफ अपराधों के बढ़ते मामलों पर अपनी गहरी चिंता व्यक्त करने के लिए आपको लिख रही हूं। यह कितना शर्मनाक है कि जब हमारा देश समृद्धि और उन्नति की ओर बढ़ रहा है, तब महिलाओं के खिलाफ बर्बरता बढ़ रही है। राष्ट्रीय अपराध ब्यूरो द्वारा जारी सांख्यिकी के अनुसार पिछले साल में महिलाओं के खिलाफ अपराध के तहत लगभग 3,27,394 मामले दर्ज किए गए। हालांकि, महिलाओं के खिलाफ अन्य यौन अपराधों में 2.5% की मामूली वृद्धि हुई है। साल में “महिलाओं पर उनकी लज्जा भंग करने के इरादे से हमले” की श्रेणी के तहत देश भर में लगभग 84,222 मामले दर्ज किए गए।

महिलाओं के खिलाफ इन आक्रोशों ने विदेशों में भारत की छवि खराब की है। हर साल लाखों विदेशी पर्यटक भारत आते हैं; इसका सीधा असर पर्यटन उद्योग पर पड़ा है। निर्भय और आसिफा दुष्कर्म कांड की दर्दनाक घटना पर देश भर में आक्रोश था। हालांकि अपराधियों को न्याय के कठघरे में लाया गया है, फिर भी महिलाओं के खिलाफ अपराध कम नहीं हुए हैं।

मैं सरकार और लोगों से महिलाओं के खिलाफ हिंसा से लड़ने के लिए एक साथ आने की अपील करती हूँ,  सरकार को चौबीसों घंटे शहरों और गांवों में महिलाओं की सुरक्षा और निगरानी के लिए विशेष पुलिस प्रकोष्ठ बनाने चाहिए। सरकार को भी महिलाओं की सुरक्षा के लिए मौजूदा कानूनों की तुलना में अधिक सख्त कानूनों को पारित और लागू करना चाहिए। मुझे उम्मीद है कि आपका सम्मानित दैनिक अखबार मेरे विचारों को स्थान देगा।

धन्यवाद सहित,

भवदीय,
भावना यादव।

write a letter to the editor of a newspaper about the way in which women issues are presented in Hindi Letter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *